HINDI

इतिहासकार बाबासाहेब पुरंदरे का 99 साल की उम्र में निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख

मुंबई : प्रख्यात और लोकप्रिय इतिहासकार बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे का सोमवार को 99 वर्ष की आयु में पुणे के दीनानाथ मंगेशकर मेमोरियल अस्पताल में आज निधन हो गया। बाबासाहेब वर्ष 2019 में पद्म विभूषण से सम्मानित किए गए थे।

इतिहासकार और पद्म विभूषण से सम्मानित बलवंत मोरश्वर जी का सोमवार सुबह (05 नवंबर) को निधन हो गया।  मिली जानकारी के अनुसार बाबासाहेब पुरंदरे अपने घर के बाथरूम में गिर पड़े थे। जिसके बाद उन्हें अस्पताल लाया गया था, उनकी हालत गंभीर होने के कारण उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। लेकिन इससे उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ।  सोमवार की सुबह प्रशासन ने उनके निधन की खबर उनके परिजनों को दी।

बाबासाहेब कौन थे?

बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे उर्फ ​​बाबासाहेब पुरंदरे का जन्म 29 जुलाई 1912 को हुआ था। वह एक मराठी साहित्यकार, नाटककार और इतिहास लेखक थे। महाराष्ट्र सरकार ने उन्हें राज्य के सर्वोच्च सम्मान ‘महाराष्ट्र भूषण’ से सम्मानित किया था। उन्हें शिवाजी से संबंधित इतिहास पर शोध करने के लिए जाना जाता था।  प्रसिद्ध नाटक जाणता राजा उनकी ही कृति है।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर जताया दुःख

प्रधानमंत्री नरेंद्र नोदी ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा, “मुझे गहरा दुख हुआ है, बाबासाहेब पुरंदरे के निधन ने एक शून्य छोड़ दिया है, जो इतिहास और संस्कृति की दुनिया में कभी नहीं भरेगा। हम छत्रपति शिवाजी महाराज के हमेशा आभारी रहेंगे।  आने वाली पीढ़ियां उनके कार्यों की स्मरणीय रहेंगी।

बाबासाहेब पुरंदरे अपने व्यापक कार्यों के कारण हममें हमेशा जीवित रहेंगे।  इस दुःखद अवसर पर मैं उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।

पुरस्कार से सम्मानित

बाबासाहेब अपने इतिहासकार के लिए प्रसिद्ध थे।

– वर्ष 2012 में प्राचार्य शिवाजीराव भोसले स्मृती से सम्मानित किए गए थे।

– डी.लिट. पुरस्कार से 2013 में सम्मानित किए गए थे।

– वर्ष 2016 में गार्डियन-गिरिप्रेमी जीवनगौरव पुरस्कार द्वारा सम्मानित किए गए थे।

– वर्ष 2019 में महाराष्ट्र भूषण अवॉर्ड (पद्म भूषण) से नवाजे गए थे।

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker