HINDI

उड़ीसा की महिला ने तय किया, नक्सल से आसमान तक का सफर

आज देश के हर हिस्से से लोग भारत का नाम रोशन कर रहे है , ऐसा ही कुछ नजारा उड़ीसा के नक्सल प्रभावित क्षेत्र मलकानगिरी में देखने मिला जहां की एक 27 वर्षीय आदिवासी महिला ने आसमान में उड़ने का सपना देखा है , हम बात कर रहे है उड़ीसा की अनुप्रिया लाकरा की जिसने अपने सपने के लिए ,अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी और आखिरकार उसने अपने सपनों की ऊंची उड़ान भर उसे पूरा कर लिया है।

अनुप्रिया ने एक निजी विमान कंपनी में बतौर को- पायलट के रूप में योगदान देने वाली है। जो की आदिवासी समाज के लिए बहुत ही गौरव की बात है।

बता दें मलकानगिरी नक्सल प्रभावित क्षेत्र माना जाता है , और इस छोटे से गांव से आसमान को छूने की इच्छा व जज्बा की वजह से अनुप्रिया ने अपने सपनों को साकार करके ही दम लिया। सिर्फ पायलट बनने की चाह में ही अनुप्रिया ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई 4 साल पहले बीच में ही छोड़ दी थी। और 2012 में उन्होंने यहां उड़ङ्यन अकादमी में दाखिला ले लिया। अनुप्रिया के पिता उड़ीसा पुलिस में हवलदार है और माता हाउसवाइफ है।

उड़ीसा के मुख्यमंत्री पटनायक ने ट्वीट कर कहा’ “मैं अनुप्रिया लकड़ा के ट्वीट के बारे में जानकर प्रसन्न हूं।उनके द्वारा सतत प्रयासों और दृढ़ता से हासिल की गई सफलता के लिए उदाहरण है। एक काबिल पायलट के रूप में अनुप्रिया को और सफलता हासिल करने के लिए ‘शुभकामनाएं’ “।

Show More

Comments

Related Articles

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker